1 रुपये में 8 लीटर दूध, 1947 में दूध, पेट्रोल और जीवनजरूरी चीजों की कीमत कहाँ थी और 2021 में कहाँ पहुँची?

Informational

Table of Contents

महंगाई ऐसी चीज हे जो ज्यादातर हमें बढ़ती दिखाई देती हे, शायद ही हमें महंगाई कम होती दिखी हो! उपलब्ध जानकारी के अनुसार 1947 में हम दूध और चीनी सहित 5 आवश्यक वस्तुओं की कीमत और आज की कीमतें लेकर आए हैं। इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि भारत की आजादी के बाद से पिछले 74 सालों में इन वस्तुओं की कीमतों में कितनी बढ़ोतरी हुई है।

दूध के दाम इतने बढ़ गए हैं।

आजादी के समय दूध की दर मात्र 12 पैसे प्रति किलो थी। उस समय 8 लीटर दूध से ज्यादा 1 रुपये में मिल जाता था। लेकिन आज दूध की कीमत 58 रुपये प्रति किलो से भी ज्यादा है। हाल ही में अमूल और मदर डेयरी ने दूध महंगा कर दिया है। दूध ऐसी चीज हे जिसकी जरुरत हमें सुबह उठ के सबसे पहले पड़ती हे।

इतनी है सोने की कीमत

सोना एक ऐसी चीज रही है जिसकी हमेशा मांग रहती है, शादी हो या फिर औरतो के सजने के लिया या फिर निवेश के लिए। 1947 में यह कीमती धातु मात्र 88.62 रुपये प्रति 10 ग्राम थी। आज देखें तो रेट करीब 48,000 रुपये के पास है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि सोने की कीमत कितनी बार बढ़ी है।

आलू की कीमत भी

भारत में आलू की खपत बहुत अधिक है। इसे देश के हर हिस्से में खाया जाता है। 1947 में एक किलो आलू की कीमत मात्र 25 पैसे थी। यानी आप 4 किलो आलू रुपये में खरीद सकते हैं. आज आलू का भाव 25 रुपये किलो के आसपास है।

चावल की कीमत भी

1947 में एक किलो चावल की कीमत मात्र 12 पैसे थी। आज चावल का भाव 50 से 70 रुपये किलो है। आजादी से पहले सिर्फ एक रुपये में तो 8 किलो चावल खरीदा जा सकता था।

पेट्रोल की कीमत करीब रु.

इस समय भारत में पेट्रोल की कीमत अब तक के सबसे ऊंचे स्तर पर है। इसलिए आप निश्चित रूप से 1947 में पेट्रोल की दर जानना चाहोगे। 1947 में एक लीटर पेट्रोल की कीमत मात्र 27 पैसे थी और आज यह १०० के आसपास हे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *